क्या आपके बच्चे को भी है हकलाने की समस्या..परेशान होने की जरूरत नहीं..ऐसे करें दूर

अगर आपका बच्चा भी हकलाता है तो फौरन इस समस्या को आप गंभीरता से लेना शुरू कर दीजिए। आज हम यह आर्टिकल उन सभी माता-पिता के लिए लेकर आए हैं जिनके बच्चे को हकलााने की समस्या है।

बहुत से बच्चे आपने देखे होंगे कि जब वो बोलते हैं तो उन्हें बोलने में कई तरह की परेशानियां होती हैं। कुछ बच्चे होते हैं जो बचपन में तुतलाते हैं और कुछ बच्चों के बोलने में आपका हकलाहट नज़र आने लगती होगी।

हकलाहट मतलब अटक अटक कर बोलने की समस्या। हो सकता है कि बचपने में आपको बच्चे का इस तरह से अटक अटककर बोलने पर प्यार आता हो लेकिन अगर इस समस्या का शुरुआत में ही इलाज ना किया जाए तो बड़े होकर भी बच्चे को ऐसी परेशानी से जूझना पड़ सकता है। हकलाने की समस्या ना सिर्फ बच्चों में बल्कि बड़ों में भी देखने को मिलती हैं।

इसलिए अगर आपका बच्चा भी हकलाता है तो फौरन इस समस्या को आप गंभीरता से लेना शुरू कर दीजिए। आज हम यह आर्टिकल उन सभी माता-पिता के लिए लेकर आए हैं जिनके बच्चे को हकलााने की समस्या है। 

डॉक्टर्स की मुताबिक हकलाने की समस्या अधिकर तीन से पांच साल की उम्र के बच्चे में ज्यादा पाई जाती है। हालांकि पांच फीसदी बच्चे समय के साथ साथ खुद-ब-खुद सही बोलना सीख जाते हैं लेकिन कुछ बच्चों की समस्या दूर नहीं होती। 

ऐसे में बच्चा का आत्मविश्वास कम होने लगता है, वो खुद को शर्म का पात्र समझने लगता है। तो ऐसे में एक माता पिता होने के नाते आपको अपने बच्चे को मानसिक तौर पर काफी समझने की ज़रूरत है। इसी के साथ आप उसकी इस समस्या को दूर करने की कोशश करें। 

हम आपको कुछ घरेलू टिप्स बताएंगे जिनकी मदद से आप बच्चे की इस समस्या को दूर करने में मदद कर सकते हैं..पढ़िए यह आसान टिप्स...

1. गाय का घी

गाय का घी सभी के लिए काफी फायदेमंद रहता है। अगर आपके बच्चे को हकलाने की समस्या है तो उसे गाय के घी में बना खाना खिलाएं।

2. ब्राह्मी तेल की मालिश

अपने बच्चे के सर पर आप ब्राह्मी का तेल गुनगुना करके मालिश करें। मालिश के बाद हल्के गर्म पानी से बच्चे को नहलाएं। ऐसा करने से धीरे धीरे बच्चे की हकलाहट की समस्या दूर होगी। 

3. आंवला

आंवाला काफी सारी चीज़ों में काफी गुणकारी होता है। यह हकलाहट की समस्या भी दूर करता है। आप अपने बच्चे को एक आंवले के पाउडर एक चम्मच देसी घी मिलाकर बच्चे को खिलाएं। लगातार ऐसा करें। धीरे धीरे पाएंगे कि बच्चे के हकलाने की समस्या दूर हो रही है। 

4. छुआरे

आप बच्चे को रोज़ रात को 3-4 छुआरे खाने के लिए दें। लेकिन ध्यान रहे कि छुआारा खाने के बाद बच्चा दो घंटे के लिए पानी ना पिए। छुआरा भी हकलापन दूर करने में लाभदायक होता है।

5. अभ्यास है कारगर इलाज

इन सबके साथ साथ आप अपने बच्चे को साफ बोलने का लगातार अभ्यास कराएं। रोज़ाना उससे कुछ देर ज़ोर ज़ोर से किताब पढ़वाएं। स्पीच थैरेपी से बच्चे की जुबान भी खुलेगी और उसकी मनोस्थिति जैसे डर, शर्म जैसे भाव भी दूर होंगे, इससे उसका आत्मविश्वास बढ़ेगा।