क्या आपका बच्चा भी दूध नहीं पीता...जानिए कैसे सुनिश्चित करें बेहतर न्युट्रिशन

दूध के अलावा भी कई चीजें हैं जिसे बच्चों के भोजन में शामिल कर आप उसे संपूर्ण न्युट्रिशन दे सकती हैं ।

आजकल हर मां अपने बच्चे की एक आदत से परेशान रहती है और वो है बच्चे के दूध ना पीने की आदत । छोटे बच्चे खासकर वो जो स्तनपान के आदि होते हैं वो तो गाय का दूध या डेयरी मिल्क लेना ही नहीं चाहते । मां का दूध छूटने के बाद भी वो अन्य कोई दूध पीना पसंद नहीं करते ।

3-4 वर्ष के कई बढ़ते बच्चे तो दिन में एक गिलास दूध भी पीना पसंद नहीं करते । जबकि दूध और अन्य डेयरी उत्पादों में कैल्शियम के साथ- साथ विटामिन डी भी रहता है जिसके सेवन से बच्चों में फ्रैक्चर या हड्डियों में कमज़ोरी की समस्या नहीं रहती । कैल्शियम की कमी रहने से बच्चों के दांत पीले होने लगते हैं इसलिए दूध पीना दांतों को स्वस्थ रखने के लिए भी आवश्यक हो जाता है ।

माना कि दूध बच्चों के शरीर और मस्तिष्क दोनों के विकास के लिए जरुरी है लेकिन आपका बच्चा दूध पीने के लिए कतई भी राज़ी नहीं और आप उसके रोज़ के नख़रे से या उनकी इस आनाकानी से तंग आ चुकी हैं तो सब्र रखिए दूध के अलावा भी कई चीजें हैं जिसे बच्चों के भोजन में शामिल कर आप उसे संपूर्ण न्युट्रिशन दे सकती हैं ।

silviarita / Pixabay

बच्चे को दूध नापसंद हो तो उनके डाईट में शामिल करें ये सब….

  • संतरे का रस पिलाएं
  • रोटी ज़रुर खिलाएं
  • सोया उत्पाद को भी भोजन में शामिल करें
  • ताज़े फलों से मिल्कशेक बना कर दें
  • दूध में चॉकलेट सीरप या कम शुगर वाला सीरप मिलाकर दें
  • दूध में स्ट्राबेरी मिला कर दें
  • सब्जियों से बना सूप भी दे सकती हैं
  • कैल्शियम का स्रोत सफेद बींस जरुर खिलाएं
  • उनमें सलाद खाने की आदत डालें
  • बादाम और चना भी दे सकती हैं 

लैक्टोज ऐलर्जी से ग्रसित बच्चे को क्या खिलाएं

कुछ बच्चों में लैक्टौज ऐलर्जी की समस्या रहती है इसलिए उन्हें दूध नहीं दिया जाता । दरअसल इन बच्चों में आंतो के ऐन्जाइम की कमी होती है जिसके कारण ये डेयरी उत्पादों को नहीं पचा पाते और दस्त जैसी समस्याएं हो जाती है ।

  • ऐसे बच्चों को लैक्टोज फ्री उत्पाद ही दें
  • कठोर पनीर खिलाएं इसमें लैक्टोज की मात्रा कम होती है
  • दही भी अच्छा विकल्प है
  • ब्रोकली, हरी पत्तेदार सब्जियां जरुर दें
  • भोजन में तिल के बीज, सोयाबीन, टोफू भी शामिल करें 

बच्चों की डाईट में बताए गए सभी खाद्य पदार्थों को शामिल कर के आप उनकी कैल्शियम की जरुरत को पूरा कर सकती हैं । इसके अलावा लैक्टोज ऐलर्जी के लिए दवाई भी दी जाती है जिसे खाकर बच्चे डेयरी उत्पाद को पचाने में सक्षम हो जाते हैं ।