केरल की महिला ने फ्लाइट में दिया प्रीमैच्योर बेबी को जन्म

अपने जेट एयरवेज फ्लाइट के दौरान जोस को प्रीमैच्योर प्रसव पीड़ा होने लगी। कुछ देर के बाद जोस ने एक स्वस्थ्य बेटे को 162 पैसेंजर के बीच जन्म दिया।जी हां , आप मानिये या नहीं लेकिन ये सच है

जब प्रेग्नेंट महिला जोस दमन से कोच्चि के लिए फ्लाइट पर बैठीं तो उन्हें नहीं पता था कि उन्हें बाकी महिला की तरह जिंदगी के सबसे बड़े डर से गुजरना होगा।

अपने जेट एयरवेज फ्लाइट के दौरान जोस को प्रीमैच्योर प्रसव पीड़ा होने लगी। कुछ देर के बाद जोस ने एक स्वस्थ्य बेटे को 162 पैसेंजर के बीच जन्म दिया।जी हां , आप मानिये या नहीं लेकिन ये सच है

जोस के लिए अच्छी बात ये थी कि फ्लाइट में क्रू पूरी तरह से ट्रेंड थे और उन्होंने तुरंत बेबी डिलिवर करने में मदद की।

फ्लाइट में डिलिवरी
baby born

कोच्चि जा रही फ्लाइट की मुंबई में इमरजेंसी लैंडिग हुई ताकि जोस को तुरंत अस्पताल ले जाया सके। जेट एयरवेज ने एक बयान जारी करते हुए कहा कि “जेट एयरवेज पर सवार अतिथि (पैसेंजर) ने 35000 फीट पर बेबी को जन्म दिया। लैंडिंग के बाद मां और बच्चे दोनों को होली स्पिरिट अस्पताल में भर्ती किया गया और अब दोनों स्वस्थ्य हैं। एयरलाइन्स नर्स सुश्री विल्सन का भी आभारी रहेगा।''

बेबी के लिए स्पेशल गिफ्ट

इमरजेंसी लैंडिंग के कारण फ्लाइट 90 मिनट देर हो गई थी। बेबी को जेट एयरवेज की तरफ से स्पेशल गिफ्ट भी दिया गया। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो एयरलाइन्स ने बेबी को लाइफटाइम पास दिया है क्योंकि वो पहला बेबी है जिसका जेट एयरलाइन्स की फ्लाइट में जन्म  हुआ है।''

एक बयान जारी करते हुए जेट एयरवेज ने कहा कि “चूंकि इस एयरलाइन्स में जन्म लेने वाला ये पहला बेबी है इसलिए जेट एयरवेज बेबी को फ्री लाइफटाइम पास उसकी सारी यात्रा के लिए दे रहा है।''

दिलचस्प बात ये है कि जेट एयरवेज की प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए एक पॉलिसी है जिसमें बताया गया है कि अगर कोई महिला 32 महीने या अधिक की प्रेग्नेंट है तो उन्हें कैसे यात्रा करनी चाहिए और क्या-क्या डॉक्यूमेन्ट जरूरी है।

अगर आप भी अपनी प्रेग्नेंसी में फ्लाइट में सफर करने जा रही हैं (ईशा देओल ने भी दूसरी तीमाही में देश के बाहर गईं) तो इन बातों का ध्यान रखें।

प्रेग्नेंसी में फ्लाइट का सफर करने के दौरान इन 5 बातों का ख्याल रखें

 
baby born

  • अपना OB-GYN अपने पास रखें खासकर अगर आपने 27 या 28 सप्ताह पूरा कर लिया है। क्योंकि 28वें सप्ताह के बाद प्रसव की संभावना बढ़ जाती है और ज्यादातर एयरलाइंस “फिट टू फ्लाई” लेटर डॉक्टर से मांगते हैं।
  • अगर आप ट्रेवल एजेंट के माध्यम से बुकिंग कर रही हैं तो उसे भी प्रेग्नेंसी के बारे में जरूर बताएं। इससे वो एयरलाइंस से पहले से अनुमति ले लेंगे ताकि आपको वो बाद में बोर्ड करने से मना ना कर दें।
  • अगर आप घरेलु टिकट ऑनलाइन ले रही हैं तो एयरलाइंस की पॉलिसी जरूर पढ़ लें। ज्यादातर पॉलिसी में डॉक्टर से क्लियरेंस लेटर की मांग की जाती है। उनकी कुछ पॉलिसी भी होती है कि आप क्या अपने साथ ले सकती हैं।
  • अगर आप इंटरनेशनल फ्लाइट ऑनलाइन बुक कर रही हैं तो हर हाल में डॉक्टर से पहले लेटर लें। अपने ट्रेवल एजेंट को भी इसके बारे में बताएं। अगर आपको बीच में फ्लाइट बदलना भी हो तो आपकी स्थिति के बारे में जानकारी होगी।
  • अगर आप परिवार के साथ पैकेज टूर पर हैं तो अपने एजेंट, एयरलाइन और ऑपरेटर को बताएं।

Source: theindusparent