ऑनलाइन मॉम ग्रुप में ये 5 बातें कभी ना करें शेयर

lead image

मुझे खासकर मॉम ग्रुप पसंद है क्योंकि वो एक ऐसा जगह होता है जहां मैं अपनी पैरेंटिंग के बारे में बातें शेयर कर सकती हूं। लेकिन मॉम प्लीज इन पांच बातों को नोट कर लें जो आपको पोस्ट करने से बचना चाहिए।

आप लोगों में से जो भी अभी ये पढ़ रही हैं उनमें से कई लोगों ऑनलाइन मॉम ग्रुप से जुड़ी हुई हैं? सिर्फ मैं उन लोगों में से अकेली नहीं हूं बल्कि कई और भी लोग शायद जुड़े हुए हैं।

मुझे खासकर मॉम ग्रुप पसंद है क्योंकि वो एक ऐसा जगह होता है जहां मैं अपनी पैरेंटिंग के बारे में बातें शेयर कर सकती हूं। मुझे एक से बढ़कर एक अच्छे अच्छे जवाब मिलते हैं।

लेकिन पिछले कुछ सालों में मैं कई ग्रुप की मेंबर रह चुकी हूं। मैंने नोटिस किया है कई मेंबर ऐसे पोस्ट शेयर करती हैं जो उन्हें ऑनलाइन मीडियम में शेयर नहीं करना चाहिए।

मॉम प्लीज इन पांच बातों को नोट कर लें जो आपको पोस्ट करने से बचना चाहिए।

1. अपने बच्चों की फोटो/वीडियो

ये सच है कि मॉम ग्रुप हर किसी को सबसे सुरक्षित जगह लगता है। ये भी सच है कि हमें अपने बच्चों की क्यूट तस्वीरें शेयर करना अच्छा लगता है और इससे बेहतर जगह और क्या हो सकता है?

जब बच्चे बाथटब में गर्मी से निजात पा रहे हो या स्कूल यूनिफॉर्म में जब वो कोई गाना गा रहे हो तो उनकी तस्वीरें या वीडियो शेयर करने से पहले आप सोचते हैं।

कई ऑनलाइन ग्रुप ऐसे हैं जिसमें हजारों की संख्या मेंबर होते हैं और इन ग्रुप के एडमिन हर पोस्ट को अप्रूव करने से पहले ध्यान रखते हैं। लेकिन वो सीआईडी नहीं होते हैं।

एडमिन हर किसी की प्रोफाइल स्कैन नहीं कर पाते हैं और ना कर सकते हैं। तो क्या आप इस तरह की स्थिति आप अपने बच्चों की फोटो और तस्वीर को डालना चाहेंगे।

 
online mum groups4 ऑनलाइन मॉम ग्रुप में ये 5 बातें कभी ना करें शेयर

2. डॉक्टरी परामर्श

मेरे बच्चे को पिछले दो दिनों से बुखार है, मुझे क्या करना चाहिए?” मेरे बच्चे की प्राइवेट पार्ट में इस तरह रैश हो गए हैं मेरा बेबी हमेशा दूध की उल्टी कर देता है, क्यों?”

ये कुछ कॉमन प्रश्न हैं जो हमेशा ग्रुप में मांएं पूछती हैं। लेकिन अगर आपके बच्चे बीमार हैं  तो हमेशा मेडिकल प्रोफेशनल की मदद लें।  

अच्छे से अच्छे डॉक्टर और पेडिट्रिशियन के बारे में जरूर परामर्श लें। अपने बच्चों के रैश या डॉक्टरी सलाह लेने के चक्कर में समय बरबाद ना करें।

3. पॉटी की तस्वीरें 

कइयों के बारे में इसे लेकर मिक्स फीलिंग है। लेकिन मैं इस तस्वीरों को पोस्ट के खिलाफ हूं। क्योंकि (a) मैं हमेशा उन तस्वीरों को तभी देखती हूं जब मैं खा रही होती हूं। (b)डॉक्टर पॉटी देखकर बच्चों के हेल्थ के बारे में बताते हैं और ये उनका काम है ना कि बाकी मम्मियों का।

4. बाकियों मम्मियों की आलोचना

ये सच है कि हम कभी ना कभी बाकी मम्मियों की आलोचना करते हैं लेकिन जब आप खुले तौर पर किसी भी मां की ग्रुप में आलोचना करते हैं तो ग्रुप का जो मकसद है वो भटक जाता है। ये माओं के सपोर्ट के लिए ग्रुप होता है आलोचना करने के लिए नहीं। (मॉन्स्टर-इन-लॉ को छोड़कर)

5. सूचना लीक करना

इस डिजिटल जमाने में माओं का ग्रुप सबसे बेहतरीन तरीका है कि अगर आप बाहर नहीं भी निकलती हैं तो इस मॉम की दुनिया से जुड़ी रह सकती हैं। यहां हम कोई घटना या अनुभव बाकी माओं के साथ शेयर करते हैं तो अपने ही फेसबुक पेज पर पढ़कर हमें शायद अच्छा ना लगे।

ये एक खुद ही समझ जाने वाला नियम है कोई भी ऐसी सूचना जो ग्रुप में दी जाती है उसे ग्रुप तक ही सीमित रखें ना कि उन लोगों के साथ शेयर करें जो ग्रुप का हिस्सा नहीं हैं। अगर आपको लगता है कि कोई सूचना देना जरूरी है या फायदेमंद है तो जिसने भी पोस्ट किया उसकी सहमति जरूर लें।  बाकी परिस्थितियों में ग्रुप की बातें ग्रुप में ही होनी चाहिए।  मॉम आप अपने इस ग्रुप प्रजाति के मेंबरशिप को ईमानदारी के साथ निभाएं । इस तरह के ग्रुप में आपको हमेशा सपोर्ट मिलता है ।

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें | 

Source: theindusparent