"एक दिन मैं तुम्हें गोद भी नहीं ले पाउंगी" - मां का बड़े हो रहे बच्चे के नाम संदेश

lead image

से स्वीकार करना काफी कष्टप्रद होता है कि लेकिन जैसे जैसे बच्चे बड़े होते हैं नाटकीय रूप से उनकी जिम्मेदारियां भी बदलती हैं लेकिन ये जरूरी भी है। जब बच्चों में बदलाव आता है, क्या ये अच्छे के लिए नहीं है?

कुछ सप्ताह पहले ही हमने एक आर्टिकल शेयर किया था कि कई नए पैरेंट्स अपने बच्चे की कई बातों को मिस करेंगे जब वो बड़े हो जाएंगे। ईमानदारी से कहा जाए तो कई पैरेंट्स ऐसे होंगे जो अपने बच्चों के बचपन के समय को बहुत याद करेंगे।

नए पैरेंट्स या जो पैरेंट्स बनने वाले है उन्हें बेबी के बचपन का दौर काफी भाग दौर, क्रेजी और थकावट भरा हो सकता है। कई पैरेंट्स इस समय को आगे जाकर मिस करते हैं। ये बेहद खास पल होता है जो बहुत जल्दी बीत जाता है।

हाल में ही  The Huffington Post में एक लेख के माध्यम से एक मां Megan Goers  ने उस दिन की दुख भरी सच्चाई बताई कि एक दिन आएगा जब उन्हें स्वीकार करना पड़ेगा कि उनके बच्चे की इच्छाएं, सपने सभी का आकार बदल गया है।

ये एक कड़वी सच्चाई है कि एक दिन आप अपने बच्चे को गोद में नहीं ले पाइएगा

बहुत ही परफेक्ट शब्दों के साथ उन्होंने बताया है कि "मैं जानती हूं कि एक दिन आएगा (जितना मैं सोचती हूं उससे भी बहुत जल्द) जब मम्मा मम्मी में बदल जाएगी और फिर “Ugh Mooooom”

इसे स्वीकार करना काफी कष्टप्रद होता है कि लेकिन जैसे जैसे बच्चे बड़े होते हैं नाटकीय रूप से उनकी जिम्मेदारियां भी बदलती हैं लेकिन ये जरूरी भी है। जब बच्चों में बदलाव आता है, क्या ये अच्छे के लिए नहीं है?

उन्होंने आगे लिखा है कि "एक ऐसा भी समय आएगा जब मैं उसकी दुनिया नहीं रहूंगी, जब अलग अर्थ में बोलें तो उसकी दुनिया कुछ और हो जाएगा। वो ठीक भी है। इसी तरह से असल में होना भी चाहिए। उसे बाहर की दुनिया देखनी चाहिए, घूमना चाहिए, सीखना चाहिए।"

ये एक कड़वी सच्चाई है कि एक दिन आप अपने बच्चे को गोद में नहीं ले पाइएगा। एक दिन आपका बेबी आपको देखने के लिए उतना परेशान नहीं होगा जितने आप उसे देखने के लिए होंगे। एक दिन आपके बच्चे आपके उपस्थिति से हो सकता है शर्मिंदा हो जाएं लेकिन ये बिल्कुल नॉर्मल है। इससे पता चलता है कि आपका बेबी अब बड़े होने के दूसरे स्टेज पर पहुंच गया है।

धीरे धीरे वो एक इंसान के रूप में बड़े होते जाएंगे और उन्हें जो करना है वो करेंगे। बतौर पैरेंट्स आपको हो सकता है बुरा लगे लेकिन आपको खुश होना चाहिए कि ये सब आपकी आखों के सामने हो रहा है।

 
dreamstime m 40429534 "एक दिन मैं तुम्हें गोद भी नहीं ले पाउंगी"   मां का बड़े हो रहे बच्चे के नाम संदेश

हाल में ही मेरी एक दोस्त ने मुझे एक विचार भेजा कि एक दिन आएगा जब वो बच्चों को अपनी गोद से नीचे उतारेंगी और फिर कभी गोद नहीं लेंगी (क्योंकि वो अब बहुत बड़े हो चुके हैं)।  एक नई मॉम के तौर पर (6 महीने) बेबी स्टेज कई मायनो में मुश्किलों भरा होता है लेकिन कई कारण है मैं इसे बांधकर रखना चाहती हूं।

फिलहाल मेरी जिंदगी काफी एक्साइटमेंट भरी है। मेरा बेबी अभी क्रॉल करना सीखा है इसलिए मुझे उसे और घर दोनों सुरक्षित रखना है। उसे दांत भी आ रहा है और ये भी  मिनी तूफान की तरह है क्योंकि कब क्या हो पता नहीं। हमें घर छोड़ने में लगभग 92 घंटे लग जाते हैं।  

नींद उड़ी हुई रातें, डाइपर, बिखरे सामान, ऐसा लगता है छोटे आर्मी के लिए पूरा सामान पैक करना है। कई मायनों में ये थकाऊ भी होता है। मैं समझ सकती हूं कुछ लोगों क्यों बेबी स्टेज को पसंद नहीं करते हैं।

वो अभी उस दौर में है जब हर किसी को देखकर ठहाके मारता है और उसे नहीं पता नफरत क्या होती है। मुझे उसकी मुस्कान पसंद है जो पूरे कमरे में उजाला ला देती है। मैं उसके भोलेपन और उस प्यार को जब तक हो सके रोक कर रखना चाहती हूं। फिलहाल वो जबरदस्त तरीके से हंसता है खासकर जब मैं उसके साथ खेलती हूं। जब मैं उसे अपने सर से भी उपर ले जाकर एयरप्लेन खेलती हूं।

जब मैं कोई कहानी या गाना सुनाती हूं तो वो पूरे एक्साइटमेंट के साथ देखता है। वो कितना कुछ एक दिन में करता है और मुझे देखकर खुशी होती है कि उसका छोटा सा दिमाग कितना कुछ करना चाहता है। वो जब कुछ नया इजाद करता है तो वो मेरी ओर देखकर जीत वाली मुस्कान देता है जो काफी मजेदार होता है।अभी वो मेरी दुनिया है और मैं उसकी।

 
dreamstime s 39596187 "एक दिन मैं तुम्हें गोद भी नहीं ले पाउंगी"   मां का बड़े हो रहे बच्चे के नाम संदेश

लेकिन मैं जानती हूं कि उसकी मम्मा मम्मी हो जाएगी और फिर Ugh Mooooom। एक दिन आएगा जब उसे मेरी कहानियां और गाने सुनकर वो नहीं मुस्कुराएगा। वो दिन भी आएगा जब वो मुझे कभी कभी गले लगाएगा या कभी नहीं भी। वो बाहर निकलेगा और उसकी दुनिया कुछ और होगी और ठीक भी है। उसे बाहर निकलना होगा दुनिया को समझना होगा, प्यार को समझना होगा।

लेकिन इसका ये मतलब नहीं है कि ये आसान है। इस रास्ते पर उसे नफरत भी समझ आएगा। वो समझेगा कि सभी लोग अच्छे नहीं होते। वो सबको देखकर नहीं मुस्कुराएगा। एक प्वाइंट पर मैं सबकुछ उसके लिए बिल्कुल आसान नहीं बना दूंगी। मैं उसे बचाने के लिए हमेशा उसके साथ नहीं रहूंगी, मैं सिर्फ उस परिस्थिति से निकलनेमें मदद करूंगी।     

एक दिन आएगा जब मैं उसे गोद लेना छोड़ दूंगी क्योंकि वो बड़ा हो जाएगा। एक दिन उसे मेरी जरूरत नहीं होगी जैसे अभी है। एक दिन वो दुनिया को मेरे बिना समझेगा। एक दिन ऐसा भी आएगा जब मुझे उसके बारे में सबकुछ पता नहीं होगा क्योंकि हम दोनों एक दूसरे से रोज नहीं बात करेंगे और रोज एक दूसरे को देखेंगे भी नहीं। हालांकि अभी वो एक दिन दूर है।

अभी उस एक दिन की कल्पना कर पाना इस नई मॉम के लिए मुश्किल है लेकिन वो एक दिन सच में आएगा। मैं अपने बेबी को कुछ कहना चाहती हूं ताकि वो इसे कभी ना भूले। एक दिन मैं तुम्हें भले मैं ना उठा पाऊं लेकिन भावनात्मक रूप से सपोर्ट करने के लिए हमेशा रहूंगी।मार्गदर्शन देने, प्रोत्साहन देने और हौसला बढ़ाने के लिए भी मैं हमेशा साथ रहूंगी।  

ऐसे भी दिन आएंगे जब तुम ना सोचो कि तुम्हें मेरी जरूरत है लेकिन मैं रहूंगी। तुम कोई भी फैसला लोगे मैं तुम्हें पकड़कर गले लगाने के लिए वहां रहूंगी। तुम कितने भी बड़े हो जाओ ये सब करने के लिए मैं हमेशा तुम्हारे पास रहूंगी क्योंकि तुम कितने भी बड़े हो जाओ और कहीं भी रहो –तुम हमेशा मेरे बेबी रहोगे।“

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें | 

Source: theindusparent