इन 5 आसान तरीकों से सुधारें बच्चों की इंग्लिश

lead image

अगर आप अपने बच्चों की इंग्लिश सुधारना चाहते हैं लेकिन आपको पता नहीं है कि कैसे सुधारें तो हम आपको कुछ बेहद आसान टिप्स दे रहे हैं जो आपकी मदद बच्चों की इंग्लिश सुधारने में करेंगे और आप एक महीने के अंदर खुद फर्क पाएंगे।

पांच साल की बेटी की मां होने के नाते और ऐसे परिवार से ताल्लुक रखने वाली जिस परिवार की मुख्स भाषा खासकर हिंदी हो तो इंग्लिश सिखाना, वर्तनी, शब्दकोष मजबूत करना, इंग्लिश बोलने सिखाना आसान काम नहीं होता ।

इसमें कोई शक नहीं है कि हम सभी चाहते हैं कि वो अपनी भाषा को अच्छे से समझे और शुद्ध बोलें क्योंकि हम उनमें अपनी संस्कृति और परंपरा भी डालना चाहते हैं और ये कहना बिल्कुल सही भी है । लेकिन कई माओं को चिंता भी होती है कि उनके बच्चे ज्यादातर अपनी भाषा में बात करते हैं और इस वजह से इंग्लिश की अनदेखी हो जाती है।

मैं अपने अनुभव से कह सकती हूं कि बच्चे मिट्टी के सामान होते हैं। उन्हें आप जो आकार देंगी वो उसी में ढल जाएंगे। इसलिए विशेषज्ञ कहते हैं कि बच्चे तीन से पांच साल के बीच सबसे जल्दी से सीखते हैं।

इसलिए अगर आप अपने बच्चों की इंग्लिश सुधारना चाहते हैं लेकिन आपको पता नहीं है कि कैसे सुधारें तो हम आपको कुछ बेहद आसान टिप्स दे रहे हैं जो आपकी मदद बच्चों की इंग्लिश सुधारने में करेंगे और आप एक महीने के अंदर खुद फर्क पाएंगे।

1. पढ़ने की आदत डालें

सबसे पहले आप अपने बच्चे में पढ़ने की आदत डालें। इसक लिए कुछ अच्छी दिलचस्प इंग्लिश की किताबें खरीदें। मैं अपनी बेटी को चंपक, मैजिक पॉट, अमर चित्र कथा, बच्चों की मैगजीन आदि लाकर देती थी जिसमें एक से बढ़कर एक कहानियां होती थी और साथ ही इनमें कई अच्छे संदेश भी होते हैं।

तीन साल की होते ही मैंने अपनी बेटी को इन मैगजीन की आदत लगाई और आज वो 5 साल की है और आसानी से लेवल 2 की किताबें पढ़ लेती है। पढ़ने से बच्चों का शब्दों का भंडार भी बढ़ता है जो उसके साथ हुआ और वो पूरे कॉन्फिडेंस के साथ अपने टीचर और प्रिंसिपल से बात करती है।

इसके अलावा कई धार्मिक किताहें और जानवरों के कैरेक्टर जिससे बच्चे इंप्रेस होते हैं और उनसे जुड़ी किताबें पढ़ना पसंद करते हैं। पहले आप खुद उन्हें पढ़कर सुनाएं, उनके साथ बैठें और उनके पढ़ने का एक खास समय बना दें।

 
Amar chitra इन 5 आसान तरीकों से सुधारें बच्चों की इंग्लिश

2. सोच समझकर टीवी शो का चुनाव करें

हमलोग सभी घर में सीरियल देखते हैं लेकिन  कई बार हम नोटिस भी नहीं करते हैं कि बच्चे भी हमारे साथ बैठकर वही देख रहे हैं। बाद में वो उसमें से कुछ शब्द सीख लेते हैं जो बाद में उनकी इंग्लिश खराब करते हैं।

इसलिए बच्चों के रहने पर सोच समझकर शो का चुनाव करें । बल्कि टीवी ना देखना भी काफी अच्छा आइडिया हो सकता है। बैठ कर बातें करना साथ बैठकर टीवी देखने से ज्यादा अच्छा आइडिया है।

3. बच्चों को इंग्लिश में देखने दें कार्टून

HD टीवी और DTH के जमाने में ऐसे टीवी भी आते हैं जिनमें भाषा को बदला जा सकता है। इसकी मदद से बच्चों की फेवरिट टीवी चैनल को इंग्लिश में लगाएं। हो सकता है शुरूआत में वो पसंद ना करें लेकिन धीरे धीरे उन्हें आदत हो जाएगी।

आप बच्चों को और भी इंग्लिश शो जैसे मि.मेकर, मिकी माउस क्लब हाउस और डिस्कवरी पर कार्टून शो देखने दे सकती हैं। ये देखना मजेदार भी होता है और बच्चों का उच्चारण भी सही होता है।

4. इंग्लिश में बात करने के लिए करें प्रोत्साहित

एक बार आपका बच्चा जैसे ही इंग्लिश सुधार लेता है आप उन्हें घर में इंग्लिश में बात करने के लिए कहें। इसके लिए आप उनसे शुरूआत में इंग्लिश में बात करना शुरू करें।

5. जब बच्चे गलत इंग्लिश बोलें तो गलतियों पर ना हसें

कभी भी बच्चे गलत बोलें तो उन्हें टोककर उनपर ना हंसे। आप इससे उन्हें सिर्फ हतोत्साहित करेंगे। वो आपके सामने बात करने से हिचकिचाएंगे। एक मां होने के नाते आप पहली शिक्षक हैं और बच्चों के लिए आपका सपोर्ट जरूरी है।

आप धैर्य रखें और भले उनकी इंग्लिश कैसी भी हो लेकिन बच्चों को प्रोत्साहित करें और मेरा विश्वास कीजिए बच्चों के लिए आपके प्रोत्साहन के दो बोल भी काफी मायने रखते हैं।

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें | 

Source: theindusparent