इग्जाम के समय बच्चों के दिमाग के लिए क्या है सही खाना

lead image

बैंगलोर के कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल की डाइटिशियन पवित्रा एन राज कहती हैं कि “बच्चों को क्या और कैसे खाने के लिए दिया जाए ये पैरेंट्स की जिम्मेदारी होती है ताकि बच्चा शारीरिक और मानसिक रुप से मजबूत रहे"

साल का वो समय आ चुका है जो पैरेंट्स के लिए भी काफी तनाव भरा होता है। जी नहीं मैं यहां इनकम टैक्स की बात नहीं कर रही है। मैं बात कर रही हूं हर साल मार्च माएं बच्चों के इग्जाम के प्रेशर से गुजरती हैं। इसे और भी बुरा बनाने बनाने में होली कोई कसर नहीं छोड़ता खासकर अगर ये इग्जाम के बीच में आए तो परेशानियां बढ़ जाती है।

अगर इग्जाम की बात करें तो हम माता-पिता इस बात का ध्यान रखते हैं कि बच्चे अपना सिलेबस अच्छी तरह से पूरा करें और इस चक्कर में बच्चों की सेहत की अनदेखी करते हैं।

जी हां बच्चो का पढ़ाई के साथ साथ उनका डाइट भी काफी मायने रखता है।इसलिए इग्जाम शुरू होने से पहले से ही बच्चों के डाइट का ख्याल रखें ताकि वो पूरे महिने इग्जाम के समय एक्टिव और अलर्ट रहें।

इग्जाम के दौरान बच्चों की डाइट

dreamstime s 49814528 इग्जाम के समय बच्चों के दिमाग के लिए क्या है सही खाना

बैंगलोर के कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल की डाइटिशियन पवित्रा एन राज कहती हैं कि “बच्चों को क्या और कैसे खाने के लिए दिया  जाए ये पैरेंट्स की जिम्मेदारी होती है ताकि बच्चा शारीरिक और मानसिक रुप से मजबूत रहे। हेल्दी खान बच्चों की एनर्जी को बनाए रखता है और साथ ही दिमाग को भी तेज करता है। यहां तक की मूड भी कंट्रोल करता है “

डॉ पवित्रा ने हमें बताया कि इन खानों को बच्चों की रोज की डाइट में शामिल करना चाहिए जो उनके दिल और दिमाग को एक्टिव रखेंगे और किन किन चीजों को बच्चों से दूर रखना चाहिए।

  1. खाने जिन में विटामिन B6 की मात्रा हो जैसे केला, दाल, ब्राउन राइस, गेंहू बच्चों के मूड को अच्छा रखते हैं।
  2. बच्चों की मेमोरी तेज रखने के  लिए उन्हें B12 से भरपूर खाना दें जैसे दूध, चिकन, मछली, चीज, अंडे, दही बच्चों के लिए काफी फायदेमंद हैं।
  3. ताजी सब्जियां, साइट्रसफल और अनार  डाइट में शामिल करें।
  4. एक ग्लास  नींबू पानी बच्चों की  पित्त को कंट्रोल में  रखता है।
  5. एक कटोरी फ्रेश सलाद जिसमें खीरा, टमाटर, मक्का, गाजर और चुकंदर  जरूर शामिल हो। 
  6. बचचों को किश्मीश और 5-8 बादाम भी  ताकि बच्चों में beta-carotene सही रहे।
  7. एक से दो ग्लास बच्चों के लिए  बहुत जरुरी है ताकि  कैल्शियम की कमी शरीर  में ना हो।
  8. चावल बच्चों के लिए जरुरी है क्योंकि  शरीर को ताकत मिलती  है क्यों इसमें कार्बोहाइड्रेट  होता है।
  9. बच्चों को तला भूना और मीठा खाने  ना दें। इग्जाम में  जाने से पहले उन्हें  ज्यादा मीठा ना खिलाएं  क्योंकि इससे उन्हें  नींद आएगी। 
  10. बच्चों को खाली पेट या अधिक खिलाकर  इग्जाम में ना भेजें। 

डॉ पवित्रा का कहना है कि इसके साथ ही इस बात का भी ख्याल रखें कि बच्चे इग्जाम के समय अपनी नींद पूरी करें और अच्छे से रेस्ट करें ताकि उनका दिमाग एक्टिव रहे।

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें | 

Source: theindusparent