अपने लाड़ले को "जेंटलमैन" बनाने के 5 तरीके

lead image

सीमा हिन्गोर्रन्य जो की मुंबई में क्लिनिकल मनोरोग विशेषज्ञ हैं बताते हैं की “बच्चों को जेंटलमैन बनाना एक मुश्किल काम हो सकता है लेकिन माता पिता इसे आसान बना सकते हैं

 src=http://hindi admin.theindusparent.com/wp content/uploads/sites/10/2016/01/boy 801182 1280.jpg अपने लाड़ले को जेंटलमैन बनाने के 5 तरीके

गौरव की मुस्कान संक्रामक सी लगती है । एक जेंटलमैन की तरह, 18 साल की उम्र में अपने हम उम्र दोस्तों के मुकाबले गौरव ज्यादा सौम्य और विनम्र है, गौरव के साथ सभी को आदर का अनुभव होता है । आज के समय में जब बड़ों के प्रति आदर एक हैरानी की  बात हो गयी है, गौरव अपने बुजुर्गों के प्रति सही सम्मान रखने के साथ- साथ अपने व्यवहार को भी संतुलित रखता है । ये सभी व्यवहार गौरव के अच्छे परवरिश को प्रदर्शित करता है ।  आप भी अपने बेटे को इसी तरह जेंटलमैन बना सकते हैं ।

सीमा हिन्गोर्रन्य जो की मुंबई में क्लिनिकल मनोरोग विशेषज्ञ हैं बताते हैं की “बच्चों को जेंटलमैन बनाना एक मुश्किल काम हो सकता है लेकिन माता पिता इसे आसान बना सकते हैं अगर बच्चों में दूसरों के प्रति आदर करने की भावना और सम्माननीय नज़रिया पैदा करने में कामयाब हो जायें ।"

अच्छी परवरिश बच्चों को एक अच्छा इंसान बनाता है । लेकिन बच्चे को जेंटलमैन कैसे बनाएं ? पढ़िए कुछ तरीकों के बारे में ।

src=http://hindi admin.theindusparent.com/wp content/uploads/sites/10/2016/01/dreamstime s 25176142.jpg अपने लाड़ले को जेंटलमैन बनाने के 5 तरीके

 

रोल मॉडल बनें

अगर आप चाहते हैं की बच्चे आपका अनुसरण करें तो आपको ऐसे उदाहरण पेश करने पड़ेंगे । बच्चों के लिए उनके माता पिता हमेशा से ही सबसे पहले रोल मॉडल होते हैं । इसीलिए अपने आचरण को वैसा ही रखें जैसा आप आपने बच्चे में देखना चाहते हैं । उदाहरण के लिए अगर आप कोई चैरिटी करते हैं तो वो आपके दयालुता और मदद करने के लिए आतुरता से जरुर प्रभावित होगा ।

सीमा बताती हैं “अपने बच्चे को दयालु बनने और मदद करने की महत्ता के बारे में बताएं । बच्चे अपनी पिटा की आदतों का बहुत जल्दी अनुसरण करते हैं ।"

src=http://hindi admin.theindusparent.com/wp content/uploads/sites/10/2016/01/shutterstock 239451412.jpg अपने लाड़ले को जेंटलमैन बनाने के 5 तरीके

सहानुभूति को बढ़ावा दें

अपने बेटे को दूसरों के प्रति सहानुभूति और आदर की भावना रखना सिखाएं । अगर आप अपने बच्चे को कठिन समय में भी खुद पर नियंत्रण रखना और अपने गुस्से पर काबू रखना सीखा सकें तो वो जरुर जेंटलमैन बन सकता है । बचपन अच्छी आदतों को सीखाने का सबसे बेहतरीन समय होता है इसका सही इस्तेमाल करें ।

सीमा बताती है “अपने बच्चे को महिलाओं के प्रति संवेदनशील होना सिखाएं । जैसे चैरिटी घर से शुरू होती है वैसे ही सहानुभूति की सीख भी घर से ही शुरू होती है । इसके लिए अपने घर पे महिलाओं के प्रति अपना व्यहवार सामान्य रखें ताकि आपका बच्चा भी ये सीखे।"

src=http://hindi admin.theindusparent.com/wp content/uploads/sites/10/2016/01/dreamstime s 36754544.jpg अपने लाड़ले को जेंटलमैन बनाने के 5 तरीके

 

घर पर अच्छे आचरण सीखें

आपकी जिम्मेदारी केवल बच्चे को खाना देने तक ही सिमित नहीं है वल्कि उसे उस भोजन को खाना कैसे है , वो टेबल मैनर्स सिखाना भी आपकी जिम्मेदारी है, और इसका पालन आपको भी करना चाहिए। आपके बच्चे आपको देख कर ही सीखते हैं ।

सीमा बताती हैं "अपने बच्चे से कहें की वो हर समय अपने शब्दों पर ध्यान रखे . उन्हें समझायें की कठोर शब्द किसी को दुःख दे सकते हैं । घर में महिलाओं से आदर के साथ बात करना भी उसे सिखाएं।"

src=http://hindi admin.theindusparent.com/wp content/uploads/sites/10/2016/01/pool 778207 1280.jpg अपने लाड़ले को जेंटलमैन बनाने के 5 तरीके

स्वच्छता का पालन करें

ज्यादातर लड़के तौलिये को सही जगह नहीं रखते या उसे फर्श पर यूँही फेंक देते हैं। ये आलसी होने की निशानी है जेंटलमैन की नहीं। इस जिम्मेदारी को अपने हाथों में लें और उदाहरण बनाएं । स्वच्छता का पालन करें और अपने बेटे को भी सिखाएं । हाथ धोना, कमरे को औ कपड़ों को साफ़ रखना और सामान को सही स्थान पर रखना आदि इन्ही नियमों में आता है ।

src=http://hindi admin.theindusparent.com/wp content/uploads/sites/10/2016/01/holding hands 255223 1280 2.jpg अपने लाड़ले को जेंटलमैन बनाने के 5 तरीके

सबके साथ बराबरी का व्यवहार करें

सबके साथ सामान व्यवहार करें , यही एक जेंटलमैन की निशानी है। उसे दूसरों के प्रति पहले से विचार बनाने के बचाएं । कई बार हम लोगों को उसे रूप, रंग , जन्म, जात या धर्म के कारण भेदभाव करने लगते हैं, इससे बचें और अपने बच्चे को भी इन गलत आदतों से दूर रहना सिखाएं।

एक जिम्मेदार माता-पिता की तरह अपने बच्चे को सभी को बराबर रूप में देखना सिखाएं और साथ ही उसे जरुरतमंदों की मदद करने की प्रेरणा भी दें । अगर मेट्रो में कोई गर्भवती महिला कड़ी है तो आप उसे सीट देकर उदाहरण प्रस्तुत करें ।

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें ।