अपने छह महीने के बेबी को सिखाएं ये खास बातें...बनेगा सुपर एक्टिव

lead image

अगर आपका बेबी भी छोटा है तो आप उसे छह महीने से एक साल की उम्र के बीच में बहुत कुछ बातें सिखा सकतें हैं। पढ़िए आप छह महीने के बेबी से एक साल की उम्र के बीच अपने बच्चे को क्या क्या सिखा सकती हैं..

अगर देखा होगा कि एक बच्चे का जन्म होता है उसके तीन चार महीने के बाद वो कुछ ना कुछ गतिविधि करना शुरू कर देते हैं। तीन से चार महीने की उम्र में आने पर वो संकेतों की भाषा सीखने लगता है। इस उम्र से बच्चा आवाज़ों को पहचानना शुरू करता है। और संकेतों से समझने की कोशिश करता हा।

इस उम्र से ही आप अपने बच्चे को शुरुआती चीज़ें सिखा सकते हैं। अगर आपका बेबी भी छोटा है तो आप उसे छह महीने से एक साल की उम्र के बीच में बहुत कुछ बातें सिखा सकतें हैं। पढ़िए आप छह महीने के बेबी से एक साल की उम्र के बीच अपने बच्चे को क्या क्या सिखा सकती हैं..

आप छह महीने के बेबी को को क्या क्या सिखा सकती हैं

1.बच्चे को बोलना सिखाएं

एक मां के लिए वो अनुभव सबसे खास होता है जब उसका बच्चा उसे पहली बार मां कहकर पुकारता है। जब बच्चा चार महीने का होता है तो वो धीरे धीरे शब्दों को बोलने की कोशिश करता है, और अक्सर बच्चा पहला शब्द ही से बोलना शुरू करता है।

इसके अलावा वह मम्मा, पापा, बाबा जैसे शब्द बोलने शुरू कर देता है। इसलिए आप उन्हें और शब्द बोलना सिखाएं क्योंकि इस उम्र में बच्चा जल्दी शब्दों को पकड़ता है और बोलना सीखता है।

2.आत्मनिर्भर बनाएं

जब बच्चा छह महीने का होता है तो उसे मां के दूध के अलावा बाहरी खाद्य पदार्थ भी खाने को दिए जाते हैं। इसके अलावा मांएं अपने बेबी को बोतल से और चम्मच से दूध पिलाना भी शुरू करती हैं।

तो आप ऐसे में अपने बच्चे को अपने हाथ से बोतल ना पकड़कर खुद उसके हाथों में बोतल देकर दूध पीने की आदत सिखा सकती हैं इसके अलावा आप उन्हें चम्मच पकड़ना भी सिखा सकती हैं। हालांकि शुरुआत में बच्चा बोतल और चम्मच को गिराएगा लेकिन बार बार करने पर वो धीरे-धीरे सीखना शुरू कर देगा।

3. बच्चे को एक्टिव बनायें

src=https://hindi admin.theindusparent.com/wp content/uploads/sites/10/2018/01/small baby.jpg अपने छह महीने के बेबी को सिखाएं ये खास बातें...बनेगा सुपर एक्टिव

आपने कई बार देखा होगा कि जब बच्चा काफी छोटा होता है तो उसके कान वाकई में काफी तेज़ होते हैं। यही कारण होता है कि वो धीमी सी आवाज़ में भी उठ जाते हैं। तो आप अपने बच्चे की इस आदत को देखते हुए उन्हें अलग-अलग जगह से पुकारें।

ऐसा करने से आप पाएंगे कि आपका बच्चा हर जगह से आने वाली आवाज़ पर ध्यान देगा। अगर उसने ध्यान देना शुरू कर दिया है तो इसका मतलब ये है कि आपका बच्चा समझना शुरू कर चुका है और उसका दिमाग तेज़ हो चुका है।

4.बच्चे के साथ गेम खेलें 

इसके अलावा आप अपने बच्चे के साथ गेम भी खे सकते हैं। जब आपका बच्चा 7 से 8 महीने का होता है तो आप उनके साथ बॉल से खेल सकते हैं। आप उसकी तरफ बॉल फेंकें और उससे वापस बॉल फेंकने के लिए प्रोत्साहित करें। लेकिन इस बात का ध्यान अवश्य रखें कि क्या आपका बेबी बॉल पकड़ पा रहा है या नहीं। ऐसा करने से आपका बच्चा और भी एक्टिव रहेगा।

यह कुछ ऐसे टिप्स हैं जो आपके नन्हे से बेबी को छोटी-छोटी लेकिन काफी काम की चीज़ें सिखा पाएंगे, जिससे उसका मानसिक विकास भी काफी तेज़ी से होगा।